Home

यजु का अर्थ

शेषे यजु: - का भी यही अर्थ है- ऋक् और साम से भिन्न गद्यात्मक मंत्रों का नाम यजुष् है यजुर्वेद का अर्थ : यत् + जु = यजु। यत् का अर्थ होता है गतिशील तथा जु का अर्थ होता है आकाश। इसके अलावा कर्म। श्रेष्ठतम कर्म की प्रेरणा. यजु का अर्थ होता है यज्ञ। यजुर्वेद में यज्ञ विधियों का वर्णन किया गया है। यजुर्वेद की भाषा पद्यात्मक तथा गद्यात्मक दोनों है 1 चार वेदों के बारे में जानकारी Brief note on four Vedas. 1.1 वेदों के उपवेद. 1.1.1 ऋग्वेद Rig veda. 1.1.2 यजुर्वेद Yajur Veda. 1.1.3 सामवेद Sama Veda. 1.1.4 अथर्व वेद Atharva veda. 1.2 वेदों का.

जानिए यजुर्वेद (Yajurveda) की शाखाएं और वर्ण विषय के बारे

नाम और विषय. यजुस के नाम पर ही वेद का नाम यजुस+वेद(=यजुर्वेद) शब्दों की संधि से बना है। यज् का अर्थ समर्पण से होता है। पदार्थ (जैसे ईंधन, घी, आदि), कर्म (सेवा. 1 ) वेद संहिताः प्राग्वेद का संग्रह । यह प्रशंसा ( रिक ) के गीतों का ज्ञान है और इसमें 1028 श्लोक ( सूक्त ) है जो 10 पुस्तको ( महल ) में संकलित है । मंडल 2 से मंडल 7. धू का अर्थ करते हुए बताते हैं की सब पदार्थों को छेदन और अन्धकार का नाश करने वाला यजुर्वेद में यजु: का अर्थ

वेद क्या है ?पुराण क्या है,वेद के प्रकार,Types of Veda

  1. वैदिक सभ्यता. सिंधु घाटी सभ्यता (Indus Valley Civilization) के पश्चात भारत में जिस नवीन सभ्यता का विकास हुआ उसे ही आर्य (Aryan) अथवा वैदिक सभ्यता (Vedic Civilization.
  2. यजु का अर्थ 'यज्ञ' होता है. इस वेद में यज्ञों के नियम व विधि वर्णन मिलता है. यजुर्वेद कर्मकांड प्रधान ग्रंथ है. इसका पाठ करने वाले.
  3. प्रणव का अर्थ ऊँकार है, जो अ, उ, म-इन अक्षरों से बना है। ये तीन अक्षर ब्रह्मा, विष्णु और महेश के अर्थ मे व्यवहृत होते हैं | ध्यान रखने.
  4. 4 Vedas in Hindi ~ जानिए चारों वेदों के बारे में, 4 ved in hindi, rigveda, yajurveda, samved, sama veda, atharva veda in hindi, चार वेद, ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद, अथर्ववेद, वेद,Read 4 Vedas in Hindi online, Read all vedas in Hind
  5. विक्रम के संवत् १९३४ पौष सुदि १३ गुरुवार के दिन यजुर्वेद के भाष्य बनाने का आरम्भ किया जाता है। (विश्वानि॰) इस मन्त्र का अर्थ भूमिका.
  6. वेदों का इतिहास जानें यही है सनातन धर्म के धर्मग्रंथ ।।ॐ।। वेद 'विद' शब्द से बना है जिसका अर्थ होता हैज्ञान या जानना, ज्ञाता या जानने वाला;मानना नहीं और न.

वैदिक संस्कृति क्या है - Mygkboo

मुख्य लेख: भारत का पुरापाषाण युग. हिमयुग का अधिकांश भाग पुरापाषाण काल में बीता है। भारतीय पुरापाषाण युग को औजारों, जलवायु. यजुर्वेद. यजुर्वेद का अर्थ : यत् + जु = यजु। यत् का अर्थ होता है गतिशील तथा जु का अर्थ होता है आकाश। इसके अलावा कर्म। श्रेष्ठतम कर्म की प्रेरणा। यजुर्वेद. मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से. सौंदर्य या लालित्य के आश्रय से व्यक्त होने वाली कलाएँ ललित कला (Fine arts) कहलाती हैं। अर्थात् वह कला जिसके.

2 - यजुर्वेद: यजुर्वेद का अर्थ: यत् + जु = यजु। यत् का अर्थ होता है गतिशील तथा जु का अर्थ होता है आकाश। इसके अलावा कर्म। श्रेष्ठतम कर्म की. 3.सामवेद (तत्वमसि): साम का अर्थ रूपांतरण और संगीत। सौम्यता और उपासना। इस वेद में ऋग्वेद की ऋचाओं का संगीतमय रूप है। सामवेद गीतात्मक.

चार वेदों के बारे में जानकारी Brief note on Four Vedas in

यजुर्वेद : यजुर्वेद का अर्थ : यत्+जु = यजु। 'यत्' का अर्थ होता है गतिशील तथा 'जु' का अर्थ होता है आकाश। इसके अलावा कर्म। श्रेष्ठतम कर्म. यजु - विक्षनरी हिन्दी

ऋक्, यजु और साम इन तीन वेदों का जाननेवाला । २. ब्राह्मणों का एक भेद यजुर्वेद : यजुर्वेद का अर्थ : यत् + जु = यजु। यत् का अर्थ होता है गतिशील तथा जु का अर्थ होता है आकाश। इसके अलावा कर्म। श्रेष्ठतम कर्म की.

सत्य, ज्ञान है वेद - सायण के अनुसार जो अनिष्ट का परिहार करे और ईष्ट यानी प्राप्त करने योग्य की उपलब्धि कराए उसे वेद कहते हैं। हिंदू धर्म में चार पुस्तकों. ऋग्, साम, यजु, मही (सकम्भसूत्र १५) 2. ऋग्, साम, यजु:, अथर्व (सकम्भसूत्र २०) 3. तीन वेदों की भांति वेदों की 'त्रयी विद्या' का ठीक अर्थ न समझने. धू का अर्थ करते हुए बताते हैं की सब पदार्थों को छेदन और अन्धकार का नाश करने वाला यजुर्वेद में यजु: का अर्थ वेद के अंग कौन कौन से है जो वेदों की भाषा शैली को सरल बनाते है । व्याकरण कहाँ तक वेदों को समझने में कारगर सिद्ध होती है ? शिक्षा, कल्प, निरुक्त, ज्योतिष और.

यजुर्वेद - विकिपीडिय

वेद क्या हैं ? चार वेदो पर सक्षिप्त टिप्पणी लिख

यत् का अर्थ होता है गतिशील तथा जु का अर्थ होता है आकाश। इसके अलावा कर्म। श्रेष्ठतम कर्म की प्रेरणा। यजुर्वेद में 1975 मन्त्र और 40. यज्ञ का एक अर्थ संगतिकरण है अतः यज्ञों और संस्कारों में परिवार के तथा दूर-2 के लोग एकत्र होते हैं जिससे उनमें परस्पर प्रेम, सहयोग और. यह पूर्व कहा जा चुका है कि शब्द बिना अर्थ के नहीं रह सकता, और भाषा बिना ज्ञान के, ऐसी दशा में आदिज्ञान के साथ ही अर्थ[१] का प्रकाश भी उन आदि ऋषियों के हृदयों.

प्राचीन भारतीय साहित्य अधिकांशतः धार्मिक रूप में है जिनमें ऐतिहासिक तथ्यों का अभाव है क्योंकि इसमें किसी घटनाक्रम एवं राजाओं की निश्चित तिथि नही दी. वेद कहते हैं- ज्ञान को। ज्ञान के चार भेद हैं- ऋक्, यजुः, साम और अथर्व। कल्याण, प्रभु- प्राप्ति, ईश्वरीय दर्शन, दिव्यत्व, आत्म- शान्ति, ब्रह्म- निर्वाण, धर्म. जीवेत शरद: शतम् शतम्। सुदिनं सुदिनं जन्मदिनम्।। भवतु मंगलम जन्मदिनम्। विजयी भव सर्वदा। जन्मदिनस्य हार्दिक शुभेच्छा।। मैं जन्म-दिन नहीं मनाता, किंतु. वेद का अर्थ. वेद विद् धातु से बना है और इसका शाब्दिक अर्थ ज्ञान (Knowledge) होता है. वेद का दूसरा नाम क्या है गणित की मातृभूमि है भारत-5 *********** कूर्म चक्र का भी यही अर्थ है-यह करने में समर्थ है। इस क्षेत्र जैसे आकार वाला जीव भी कूर्म (कछुआ) है। यह किरण का क्षेत्र होने.

Please wait . Sculptures. Most Popular Brass Apsara Bodhisattva Buddha Ganesha Goddess Hanuman Krishna Large Mask Ritual Shiva Tribal More Bras उत्पादन का अहम् २. सामर्थ्य का अहम् ३. दान का अहम् ४. शासन का अहम् ५. धारणा करने का अहम् ६. प्रजापालन का अहम् ७. बन्धुत्व का अहम् ८ The main theme of the Yajurveda is to explain man-made karma, however it cannot be said that in this Veda there has been no lecturer other than karma. From the Yajurveda, deep thinking is received on philosophical subjects like God, life, nature, creation, life and death etc. Along with the philosophical element, sociology in which the basic rules of human welfare, varna and ashram system.

महावाक्य का क्या अर्थ होता है? अगर आप उस एक वाक्य को ही अनुसरण करते हुए अपनी जीवन की परम स्थिति का अनुसंधान कर लें, तो आपका यह जीवन सफलता पूर्वक निर्वाह. Please Wait... Free shipping to all destinations worldwide. Sign in; Sculpture अथर्ववेद : थर्व का अर्थ है कंपन और अथर्व का अर्थ अकंपन। इस वेद में रहस्यमयी. ऋग से स्थिति या ज्ञान, यजु से रूपांतरण या मोक्ष, साम से गति‍शील या काम तथा अथर्व से जड़ या अर्थ का बोध होता है। इन्ही के आधार पर धर्म. यजुर्वेद - यजुर्वेद का अर्थ : यत् + जु = यजु। यत् का अर्थ होता है गतिशील तथा जु का अर्थ होता है आकाश। इसके अलावा कर्म। श्रेष्ठतम कर्म की.

नवम्बर 2017 Vedanurag

यजुर्वेद का अर्थ : यत् + जु = यजु। यत् का अर्थ होता है गतिशील तथा जु का अर्थ होता है आकाश। इसके अलावा कर्म। श्रेष्ठतम कर्म की प्रेरणा। यजुर्वेद में यज्ञ की. यजुर्वेद शब्द यत् + जु = यजु से मिलकर बना है। यत का अर्थ गतिशील और जु का अर्थ आकाश होता है। इस तरह यजुर्वेद का अर्थ आकाश में गतिशील होने. यजुर्वेद का अर्थ : यत् + जु = यजु। यत् का अर्थ होता है गतिशील तथा जु का अर्थ - आकाश, इसमें गुण में कर्म है श्रेष्ठम कर्म । आप अपने जीवन में. ब्रह्म के सगुण और निर्गुण दोनों ही रूपों का वर्णन करने वाले कुछ अन्य वैदिक प्रमाण भी देखे जा सकते है - (यजु.-31.3) (अर्थ को चाहने वाले). about Rig Vedic Kaal in Hindi - 1002450

वैदिक सभ्यता - विकिपीडिय

इसमें यज्ञ की असल प्रक्रिया के लिये गद्य मन्त्र हैं।यह वेद. जो जगत् का सृष्टा, पालनकर्ता, नियंता है, उस माता-पिता रूप ईश्वर का क्या कोई एक निश्चित दिन हो सकता है? क्या कोई भी दिन उसके बाहर होना संभव है? तब क्या अर्थ. और आपकी कृपा के सहाय से सब विघ्न हमसे दूर रहें कि जिससे इस वेदभाष्य के करने का हमारा अनुष्ठान सुख से पूरा हो। इस अनुष्ठान में हमारे.

यजुर्वेद का अर्थ, यजुर्वेद के बारे में, शुक्ल यजुर्वेद

  1. Vedas -Self Study - Vedas - Help for Self Study Word Veda signifies 'embodiment' of Vidya. Vedas are thus repositories of all complete universal knowledge and thought processes that.
  2. मैक्समूलर का विकासवाद द्वारा यह निष्कर्ष निकालना अनुचित एवं मिथ्या है कयोंकि देव व देवता आदि का अन्य अर्थ, जीव, सभ्य, रक्षक, कमनीय.
  3. कहूँ । बोले, ऋक, यजु, साम, अथवे, ये चीरो वेद, पंचम चेद रूपी इतिहास पुराण जिस के बिना वेद का अर्थ ठीक समभ में नहीं आ सकता, बेदों का वेद.
  4. **यजुर्वेद : यजुर्वेद शब्द यत् + जु = यजु से मिलकर बना है। यत का अर्थ गतिशील और जु का अर्थ आकाश होता है। इस तरह यजुर्वेद का अर्थ आकाश में.
  5. अर्थ- जल की लहरों से हिलते हुए कमल के नवीन नाल के समान जिनकी कोमल भुजाएँ हैं पवन से जैसे लता का एक अग भाग नाचता है, ऐसे चंचल लोंचनों से.
  6. वेदों का इतिहास जानें ।।ॐ।। वेद 'विद' शब्द से बना है जिसका अर्थ होता है ज्ञान या जानना, ज्ञाता या जानने वाला; मानना नहीं और न ही मानने वाला। सिर्फ जानने.
  7. पढ़ें Baby boy names in hindi, Hindu Baby Boy Names के बारे में, साथ ही हिंदू लड़कों के नाम की सूची से धर्म के आधार पर ladko ke naam, लडकों के नाम, Indian baby boy names and meaning in hindi, इंडियन लड़के के नाम, boy names in hindi.

Video: क्या प्रणव यानी ऊँकार, साक्षात परमात्मा का नामावतार और

4 Vedas in Hindi ~ सम्पूर्ण वेद ~ जानिए चारों वेदों के

  1. ओ३म् खं ब्रह्म (यजु ४० । १७) उत्तर— 'अन्' शब्द का अर्थ जीव तो प्रत्यक्ष ही है । क्योंकि (अनिति, प्राणिति, जीवतीति = अन्) 'अन्' धातु का.
  2. पुराण का अर्थ पुरातन या पुराना है और यह नए पुराण तो बहुत आधुनिक समय में लिखे गए हैं.तैत्तरीय आरण्यक २.९ और आश्वलायन गृह्यसूत्र ३.३.१.
  3. योग के ये आठ अंग हैं: १. यम २. नियम ३. आसन ४. प्राणायाम ५. प्रत्याहार ६. धारणा ७. ध्यान ८. समाधि १. यम : पाँच सामाजिक नैतिकता (क) अहिंसा - शब्दों से, विचारों से और.
  4. अर्थ- अग्नि, वायु, सूर्य इन देवताओं से यज्ञ का प्रचार करने के लिए ऋक्, यजु:, साम इन तीन वेदों का प्रचार प्रजापति ने करवाया, इसिलये जिस.
  5. य अक्षरावरून काही संस्कृत अर्थाची नावे अशी यशश्री - यशाच्या रूपातील लक्ष्मी अथवा वैभव यज्ञश्री - यज्ञाचे वैभव यशस्विता - यशस्वी होणारी यशस्विनी.
  6. वेदांग का शाब्दिक अर्थ है वेदों का अंग, तथापि इस साहित्य के पौरूषेय होने के कारण श्रुति साहित्य से पृथक ही गिना जाता है
  7. (यजु. ३.१७) लिखा होता है। यहाँ देवता शब्द का अर्थ है- मंत्र का प्रतिपाद्य विषय या 'मंत्र को केन्द्र बिन्दु' (तेन वाक्येन यत्.

This entry was posted on अप्रैल 17, 2011 at 7:59 अपराह्न and is filed under Uncategorized.टैग की गईं: भगवान.You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, या trackback from your own site - यजु. 31/11. देखिए-वर्ण-व्यवस्था शब्द का अर्थ ही यह है कि कोई वर्णों की व्यवस्था करता है। जैसे पण्डितों से व्यवस्था लेना। इसी प्रकार. श्रीबाला त्रिपुर-सुन्दरी नाम का अर्थ से पूर्व जो विधमान थी तथा जो वेद त्रयी १.ऋग २.यजु: और ३. साम-वेद से पूर्व विद्यमान थी एवं त्रि. Omkar is the confluence of three energies (Trishakti). A, U, M are the three sounds or atomic energy inside Omkar. 'A' represents Brahma, 'U' represents Vishnu and 'M' represents Mahesh. In fact, these three sounds are not limited to this, but are known as Trishakti Mahasaraswati, Mahalakshmi and Mahakali, Sattva, Raja and Tama. Swami Dayanand and Sikhism. A Sikh writer Gurpreet Singh Sumra, have released a book on Arya Samaj founder Swami Dayanand Saraswati. Author have written nothing new but it's just old wine in new bottle. Author have mostly derived his facts from old books written time to time against Aryasamaj and Swami Dayanand without quoting them to prove.

प्रेम-बीज. व्यर्थ ही जाएँगी तुम्हारी सारी बातें. धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष, ऋग्‌, यजु:, साम, अथर्व. सब. पड़े रहेंगे एक कोने में. सिद्धार्थ की. आइये, वेद के इन 4 प्रकारों के बारे में जानते हैं:-. 1. ऋग्वेद:- ऋग्वेद सनातन धर्म का सबसे आरंभिक स्रोत है। ऋक का अर्थ होता है ज्ञान और. विश्वगुरु की उपाधि से विभूषित भारत की सभ्यता जितनी प्राचीन है; उतना ही प्राचीन है यहाँ का दर्शन भी है या ऐसा कहा जाए कि दर्शन यहाँ के मूल में रचा बसा है.

इस मन्त्र का अर्थ है - हे परमदेव गणेशजी ! समस्त गणों के अधिपति एवं प्रिय पदार्थों प्राणियों के पालक और समस्त सुखनिधियों के निधिपति शतपत ब्राह्मण (१०.३.५.१-२) में 'यजु:' को स्पष्ट करते हुए उसे 'यत्+जू:' का संयोग कहा है. यत् का अर्थ होता है गतिशील, तथा जू: का अर्थ. अर्थ- (तस्मै) उस ब्रह्म ही महती कीर्ति को विस्तृत करने के लिये मानो (उदयन्) उदय होता हुआ (सूर्य) सूर्य (हिं करोति) हिंकार सामगान का.

Yajurveda Vedic Scripture

  1. गायत्री मंत्र को समस्त वेद- शास्त्रों का निचोड़ कहा गया है ।। शास्त्रों में ऋषिगणों ने इस मंत्र की महिमा का गायन खुलकर किया है तथा.
  2. होली-(क) शब्द का अर्थ- इसका मूल रूप हुलहुली (शुभ अवसर की ध्वनि) है जो ऋ-ऋ-लृ का लगातार उच्चारण है। आकाश के ५ मण्डल हैं, जिनमें पूर्ण विश्व.
  3. Ved Kya Hai : आइए जरा विस्‍तार से जानते हैं, कि आखिर क्‍या हैं ये 'वेद' और क्‍यों इन्‍हें हिन्‍दू धर्म का सर्वोच्‍च ग्रंथ माना जाता है। लेकिन, इससे पहले हम आपको.
  4. अथर्वदेव: थर्व का अर्थ है कंपन और अथर्व का अर्थ अकंपन। इस वेद में रहस्यमयी विद्याओं, जड़ी बूटियों, चमत्कार और आयुर्वेद आदि का जिक्र.
  5. स नो वसून्या भर (यजु. 15/30) वेद ने अर्थ का आधार पशु पृथिवी और मनुष्य को माना है। अथर्व वेद (20/127/12) में आया है कि इस पृथ्वी पर गौएं अश्व एवं.
  6. ऋग्वेद, सामवेद व यजुर्वेद को त्रयी कहा जाता है। यजु का अर्थ यज्ञ होता है। मैत्रेयी संहिता भी यजुर्वेद से सम्बन्धित है
  7. 2- यजुर्वेद : यजुर्वेद का अर्थ : यत् + जु = यजु। यत् का अर्थ होता है गतिशील तथा जु का अर्थ होता है आकाश। इसके अलावा कर्म। श्रेष्ठतम कर्म की.

19)वेद को विद्या भी कहते हे | वेदो मे विशाल ज्ञान की राशि विद्यमान्‌ है। अत ज्ञान का सडग्रह-प्रन्थ होने से इसे वेद या विद्या भी कहते हे । इसके अतिरिक्त.

सनातन धर्म व वेद 360 Teerth Purohit

  1. यजुर्वेदमे यजु का अर्थ होता है यज्ञ।यजुर्वेदमे यज्ञ सबंधी नियमो और विधि का वर्णन किया गया है
  2. जहां 'सु' का अर्थ है शुभ और 'अस्ति' का अर्थ है- होना अर्थात 'शुभ हो', 'कल्याण हो. आसन भाषा में स्वास्तिक का अर्थ होता है कुशल एवं कल्याण
  3. ऋग्वेद चारों वेदों में पहला है, शेष तीन वेद (यजु, साम और अथर्व) भी पहले इसी वेद का हिस्सा थे। वेदों का अध्ययन इसी से शुरू होता है। आज भी वेदपाठी ब्राह्मण.
  4. The word Udumbara(Ficus Glomearata) is a seldom - used word of Rigvedic mantras. There is one hymn in Atharvaveda whose presiding diety is Audumbara mani/gem
  5. मां गायत्री का उल्लेख ऋक्, यजु, साम, काण्व, कपिष्ठल, मैत्रायणी, तैत्तिरीय आदि सभी वैदिक संहिताओं में है। कुछ उपनिषदों में सावित्री और.
  6. ←गौ माता के पूजन का अदभुत दर्शन; रक्षा-बंधन, रक्षा-सूत्र, भगवा ध्वज और श्रावण पूर्णिमा

मनु का विरोध क्यों? पुस्तक डाउनलोड करें लेखक -डॉ. सुरेन्द्र. से इस क्रिया के लिए प्रयोग किये गए हैं| जब तक हम इन दोनों शब्दों को समझ नहीं लेते, तब तक हम इस मन्त्र की क्रियाओं को ठीक से कर नहीं पावेंगे| अत: इन दो शब्दों. संख्या नामों के अर्थ-१ से १८ अंक तक की संख्याओं के नाम प्रचलित हैं जो क्रमशः १०-१० गुणा बड़े हैं। एक (१), दश (१०), शत (१००), सहस्र (१०००), अयुत (१०,०००), लक्ष (१००.

Opinion News in Hindi: दुर्गा-अर्चना में इस विष्णु माया रूप को क्षुधा कहा गया है। क्षुधा का अर्थ भूख होता है। हम केवल शरीर की इस भूख को ही क्षुधा मान बैठते हैं ऋग्वेद देवताओं की स्तुति से सम्बंधित रचनाओं का संग्रह है। यह 1० मंडलों में विभक्त है। इसमें 2 से 7 तक के मंडल प्राचीनतम माने जाते हैं. हिन्दू युग एक सनातन यात्रा .हिन्दू वंश की उत्पति और हिन्दू ग्रंथो की जानकारी एवं उनको हर एक हिन्दू वंशी को देना यही इस वेबसाइट और हमारा उदेश है । वेद के. शिलान्यास विधि के लिए वेदों में विशेष मंत्रों का उल्लेख किया गया है। नए निर्माण से पहले विधिवत शिलान्यास बहुत जरूरी है। अथर्ववेद, यजुर्वेद और सामवेद. रुद्र देवता वैदिक वाङ्मय में एक शक्तिशाली देवता माने गये हैं। ये ऋग्वेद में वर्णन की मात्रात्मक दृष्टि से गौण देवता के रूप में ही वर्णित हैं।ऋग्वेद.

चार वेद, जानिए किस वेद में क्या है four vedas in hind

सृष्टि में मनुष्यों सब से पहले कँहा पैदा हुये वा सृष्टि का आदिम स्थान. पहले हम कुछ व्यक्तियों का नाम और उनका वक्तय रखते हैं फिर सनातन. मणि का अर्थ बहुमूल्य या श्रेष्ठ, भद्र का अर्थ होता है पुरुष। श्रेष्ठ अर्थात् ऋषि मुनियों की, विद्वानों की, मीमांसकों की जो पुरी अथवा. A humble attempt to help the readers across different cultures and languages to understand Srimad Bhagavad gita with explanatory pictures and related Question, Answers from each verse

लड़कों के विशिष्ट छोटे 130 नाम अर्थ के साथ Short Baby

2.यजुर्वेद: यजुर्वेद का अर्थ : यत् + जु = यजु। यत् का अर्थ होता है गतिशील तथा जु का अर्थ होता है आकाश। इसके अलावा कर्म अर्थात श्रेष्ठतम. ४) चैतन्य तथा जड़ का महत्ता पूर्वक एक ही अधिष्ठाता रहता है, द्वि चतुः पग का सहजतः ईश है, उसकी यथावत भक्ति तथा सेवन है